प्रकृति की जीवंतता से ही कोरोना की मुक्ति संभव – योगभूषण महाराज

ओ-टू मिशन के अंतर्गत वृक्षारोपण

नई दिल्ली,बरुण कुमार सिंह,19 अप्रैल 2021 – धर्मयोग फाउंडेशन के तत्वावधान में मिशन ओ-टू यूनिवर्स का शुभारम्भ किया गया। जिसके अंतर्गत देश भर में वृक्षारोपण के अनूठे और प्रेरक उपक्रम आयोजित हुए। कोरोना महामारी के बीच आँक्सीजन की बढ़ती किल्लत को देखते हुए वृक्षारोपण के माध्यम से आँक्सीजन की मात्रा बढ़ाने का अभिनव उपक्रम सामने आया है। समारोह में वक्ताओं ने प्रकृति संरक्षण के लिए वृक्षारोपण की जरूरत को व्यक्त करते हुए कहा कि प्रकृति की जीवंतता ही कोरोना की मुक्ति का माध्यम है।
मंत्र महर्षि श्री योगभूषण महाराज की संप्रेरणा से धर्मयोग फाउंडेशन द्वारा प्रकृति और संस्कृति संरक्षण का अनूठा कार्यक्रम ओ-टू यूनिवर्स तैयार किया गया, जिसके तहत सम्पूर्ण देश भर में वर्चुअल मीटिंग के द्वारा सभी लोगों ने वृक्षारोपण करते हुए प्रकृति संरक्षण की शपथ ली। जन्मदिन, विवाह, शादी, अन्य मांगलिक अवसरों पर उपहार स्वरूप वृक्ष प्रदान करने के लिए लोगों द्वारा संकल्प लिए गए।

  विदित हो धर्मयोग फाउंडेशन अपने समस्त कार्यक्रमों में अतिथियों को उपहार एवं सम्मान स्वरूप तुलसी का पौधा भेंट करता है।

योगभूषणजी महाराज ने ऑक्सीजन की महत्ता पर बल देते हुए कहा कि आज कोरोना महामारी के समय में हमने यह अहसास कर ही लिया है कि हमारे जीवन मे ऑक्सीजन की कितनी जरूरत है। इस संकट के समय में हम देख रहे है कि रोगियों को ऑक्सीजन की पूर्ति नहीं हो पा रही है लेकिन अनादिकाल से हमारी ऑक्सीजन की पूर्ति हमारी प्रकृति कर रही है। जीवन को संतुलित एवं जीवनमय बनाने की इस सुंदर और व्यवस्थित प्रक्रिया को हमने तथाकथित विकास एवं आर्थिक स्वार्थ के चलते भारी नुकसान पहुंचाया है। प्रकृति का लगातार हो रहा दोहन और पर्यावरण की उपेक्षा ही कोरोना जैसी महामारी का बड़ा कारण है। वर्तमान में हमने जंगल नष्ट कर दिए और भौतिकवादी जीवन ने इस वातावरण को धूल, धुएं के प्रदूषण से भर दिया है जिससे हमारा भविष्य खतरे में है। इस खतरे से बचाने में ओ-टू मिशन एक कारगर उपाय है। योगभूषण महाराज ने आगे कहा कि इस असुरक्षित भविष्य को सुरक्षित करने के लिए हमें अब जागना होगा। कुछ करना ही होगा। वर्तमान की सबसे बड़ी समस्या प्रदूषण, क्लाइमेट चेंज, वेस्ट मैनेजमेंट, बायोडाइवर्सिटी आदि है जिनका सही समाधान वृक्षारोपण ही है। इसे एक राष्ट्रव्यापी अभियान बनाना होगा। ओ-टू यूनिवर्स मिशन इसी कार्य का शुभारंभ है।

इस कार्यक्रम में जैनाचार्य श्री सौभाग्य सागरजी महाराज,डॉ श्रेयांस जैन (अध्यक्ष - भारतवर्षीय श्री दिगम्बर जैन),भव्य श्रीवास्तव (रिलिजन वल्र्ड), ब्र. देवेंद्रभाई, मुम्बई, ज्योतशिखरजी (यूएनईपी), योगाचार्य राजीव जैन त्रिलोक (भोपाल),ललित गर्ग (अध्यक्ष-सुखी परिवार फाउंडेशन, दिल्ली), पीयूष रविन्द्र खड़कपुरकर (संघपति), दे.राजा, डॉ.सुरेंद्र जैन (सीएमओ,बड़ोदरा,) राजेन्द्र जवेरी (न्यूजर्सी),श्रीमती मनीषाजी (अलवर), शोभना मालडे (केन्या), आर्यन (जापान) आदि सैंकड़ों देश-विदेश के धर्म श्रद्धालु उपस्थित रहे।

 सम्पूर्ण कार्यक्रम का संयोजन ब्र.योगांशी दीदी, गौतम कुमार शर्मा (दिल्ली) ने किया तथा प्रसारण जैनम जूम डिजिटल चैनल पर किया गया।

प्रकृति की जीवंतता से ही कोरोना की मुक्ति संभव – योगभूषण महाराज Liberation of corona is possible only with the vibrancy of nature – Yogabhushan Maharaj

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *