रत्नत्रय जिनमंदिर द्वारिका में सम्पन्न हुआ महामस्तकाभिषेक

रत्नत्रय जिनमंदिर द्वारिका में सम्पन्न हुआ महामस्तकाभिषेक Mahamastakabhisheka concluded in Ratnatraya Jinamandir Dwarka
दिल्ली, दि.21.02.21 -पीठाधीश रवीन्द्रकीर्ति स्वामीजी को जगदगुरू की उपाधि से किया गया सम्मानित द्वारिका
 दिल्ली स्थित रत्नत्रय जिनमंदिर की पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव की आठवीं वर्षगांठ पर किया गया महामस्तकाभिषेक का आयोजन । जिसमें मुख्यरूप से अन्तेवासी पट्टशिष्य राष्ट्रगुरू परम्पराचार्य श्री प्रज्ञसागर जी मुनिराज , मुनिश्री विभंजनसागर जी . मुनिश्री प्रथमानंद जी एवं जम्बूद्वीप - हस्तिनापुर धर्मपीठ के पीठाधीश स्वस्तिश्री रवीन्द्रकीर्ति स्वामाजी के पावन सान्निध्य में सम्पन्न हुआ । प्रारंभ में स्थानीय महिला मंडल के भक्ति नृत्य गीत मंगलाचरण पूर्वक प्रारंभ हुआ कार्यक्रम । तत्पश्चात् कार्यक्रम में उपस्थिति दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ,बागपत सांसद सत्यपाल जी एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य,प्रवेश वर्मा सांसद , दिल्ली ,अतिथियों के द्वारा दीप प्रज्ज्वल किया गया । इसके उपरांत आचार्यश्री की आठों द्रव्यों से भक्तिपूर्वक पूजन सम्पन्न की गई । 

इसके उपरांत आचार्यश्री ने कार्यक्रम में उपस्थित जम्बूद्वीप – हस्तिनापुर के पीठाधीश स्वस्तिश्री रवीन्द्रकीर्ति स्वामाजी को समस्त रत्नत्रय जिन मंदिर कमेटी एवं दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री व सांसद महोदय , पूर्वमंत्री प्रदीप जी आदित्य ने ” जगदगुरू ‘ की उपाधि से अलंकृत कर प्रशस्ति पत्र प्रदान किया । इस अवसर पर समाज के वरिष्ठ कार्यकर्ता उपस्थित थे । जिसमें मुख्यरूप से निर्मल जी सेठी , चकेश जैन ,प्रमोद जैन वर्धमान , प्रमोद कुमार जैन,ग्रीनपार्क ,शरदराज कासलीवाल , पवन गोधा, अरविन्द्र जैन प्रज्ञ , सुभाषचंद जैन , हेमचंद जी ,अनिल जैन ,विजय जैन ,डॉ . जीवनप्रकाश जैन , जयकुमार उपाध्याय आदि उपस्थित रहे ।

कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रमोद जैन वर्धमान , माडल टाउन ने की । स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जी जैन दिल्ली सरकार ने दिल्ली विधान सभा में इस वर्ष भी महावीर जयंती मनाने के लिए आचार्य प्रज्ञसागर जी मुनिराज को पुनः आमन्त्रित किया एवं आचार्यश्री ने आशीर्वाद देते हुए स्वीकृति प्रदान कर दी । साथ ही सांसद प्रवेश वर्मा जी ने राष्टपति भवन में आचार्य श्री के सान्निध्य में महावीर जयंती मनाने का आश्वासन दिया । बागपत सांसद सत्पाल सिंह जी ने आचार्य श्री के आदेशानुसार भगवान महावीर स्वामी जी का 2550 वां निर्वाण महोत्सव भारत सरकार द्वारा मनाने के लिए आश्वासन दिया । इसके उपरांत आये हुए अतिथियों का माल्यार्पण एवं प्रतीक चिन्ह देकर स्वागत किया गया । कार्यक्रम में सर्वप्रथम दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री श्री सतेन्द्र जी जैन ने उपस्थित सभी संतों को नमन करते हुए कहा कि जो जैनधर्म का पालन करता है , वह जैन है । हर व्यक्ति जो भगवान महावीर स्वामी के बताये हुए मार्ग का अनुसरण करे वह सच्चा जैनी है ।

  कार्यक्रम में उपस्थित श्री सत्यपाल जी सांसद बागपत ने कहा कि मैं सदैव ही जैन समाज से जुड़ा रहा हूँ , मुझे जैन समाज के कार्यों को करने का विशेष अवसर भी प्राप्त हुआ । मेरे समीप में ही बड़ागाव तीर्थ स्थल है जहाँ पर सारे देश जैन समाज के व्यक्ति आते हैं । इसी श्रृंखला में सांसद दिल्ली श्री प्रवेश जी वर्मा ने अपना वक्तव्य देते हुए कहा कि मैं सदैव से ही इस मंदिर के प्रत्येक कार्य में जुड़ा रहा हूँ मुझे मंदिर के पंचकल्याणक में आने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था एवं जैन समाज के द्वारा मुझे जो भी कार्य सौपा जायेगा में उसे अपना सौभाग्य समझकर पूर्ण करूगा । 

इसी कम में पूर्व मंत्री श्री प्रदीप जैन आदित्य ने अपना वक्तव्य देते हुए कहा कि मैं जब मंत्री था या सांसद था या आज समाज का एक सामान्य व्यक्ति हूँ लेकिन सदैव जैन समाज के प्रति अपने दायित्व का भलीभांति निर्वहन करता हूँ । आज मेरा सौभाग्य है कि मैं इस कार्यक्रम में सम्मिलित हुआ।

मुझे किसी भी उपाधि की आवश्यकता नहीं थी लेकिन
जगदगुरू कि उपाधि से सम्मानित होने के उपरांत पूज्य पीठाधीश रवीन्द्रकीर्ति स्वामीजी ने अपना वक्तव्य देते हुए कहा कि मुझे आपने जगदगुरू की उपाधि से सम्मानित किया , मैं तो सिर्फ गणिनी ज्ञानमती माताजी का शिष्य हूँ एवं माताजी के द्वारा आदेशित कार्यों को करता रहता हूँ , सिर्फ मेरी यही पहचान है । चाहे मांगीतुंगी की 108 फुट विशलकाय प्रतिमा हो या कुण्डलपुर ( नालंदा ) तीर्थ हो या प्रयाग इलाहाबाद हो या जम्बूद्वीप – हस्तिनापुर हो या कोई भी तीर्थ का कार्य हो आचार्यश्री एवं कमेटी के समस्त कार्यकर्ताओं को अति आग्रह पर मैं यहाँ पर आया हूँ । मुझे किसी भी उपाधि की आवश्यकता नहीं थी लेकिन आप सभी ने मुझे इस योग्य समझा यह मेरा सौभाग्य है , पुनः में आचार्य श्री प्रज्ञसागर जी एवं ज्ञानमती माताजी उपस्थित सतों के चरणों में नमन करता हूँ । दिल्ली सांसद श्री प्रवेश वर्मा जी के बारे में विशेषरूप से कहा कि इनके पिताजी श्री साहिबसिंह जी वर्मा जो कि दिल्ली प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे एवं माताजी के दर्शनों के लिए साईकिल से पधार करके एक विशेष व्यक्त्वि का परिचय दिया । इसी प्रकार से प्रवेशसिंह वर्मा जी समाज से जुड़े हैं इनके लिए मेरा विशेष आशीर्वाद इसी प्रकार से समाज के कार्यों को सम्पन्न करते रहें । इसके पश्वात आचार्यश्री प्रज्ञसागर जी मुनिराज ने रवीन्द्रकीर्ति स्वामीजी को खूब – खूब आशीर्वाद प्रेषित किया । एवं सभी उपस्थित भक्तों के लिए अपने आशीर्वचन प्रदान किये । उपस्थित सम्मानीय मंत्री दिल्ली सरकार एवं सांसद महोदयों को अपना आशीर्वाद प्रेषित किया एवं कार्यकम को सुचारूरूप से चलाने के लिए समस्त कार्यकारिण कमेटी के लिए अपना आशीर्वाद दिया ।

कार्यक्रम के लिए हस्तिनापुर में विराजमान गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ने एवं प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामताजी ने अपना आशीर्वाद एवं शुभकामनाएँ प्रेषित की । इसी श्रृंखला में पूर्व सांसद श्री जे.के. जैन , दिल्ली एवं श्री विजय कुमार जैन राष्ट्रीय मुख्यसंयोजक अ.भा.दि. जैन परिषद , जम्बूद्वीप – हस्तिनापुर ने अपनी शुभकामना कार्यक्रम के लिए प्रेषित की । श्री चकेश जैन ने इस अवसर पर अपना वक्तव्य प्रस्तुत किया ।

कार्यक्रम का कुशल संचालन श्रीमती इंदू , जैन ने किया । पार्श्वनाथ दि . जैन महिला मंडल का कार्यक्रम में मुख्यरूप से सहयोग प्राप्त हुआ । इस अवसर पर रथयात्रा भी निकाली गई । भगवान के मस्तक पर महामस्तकाभिषेक सम्पन्न किया गया । सभी सौभाग्यशाली महानुभावों ने महामस्तकाभिषेक करने का सौभाग्य प्राप्त किया । सारे विश्व में शांति की कामना को लेकर महाशांतिधारा सम्पन्न की गई । कार्यक्रम में अंत में रत्नत्रय जिनमंदिर कमेटी के अध्यक्ष शरदराज कासलीवाल ने सभी का आभार ज्ञापित किया ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: