लेनिन एवं श्रुति ने पुनः बढ़ाया देश का मान, प्राइज़ वॉच की ओर से नोबेल शांति पुरस्कार हेतु हुए नामित

लेनिन एवं श्रुति ने पुनः बढ़ाया देश का मान, प्राइज़ वॉच की ओर से नोबेल शांति पुरस्कार हेतु हुए नामित

लखनऊ: मानवाधिकार एवं दलित अधिकारों के प्रति लड़ाई लड़ने वाले काशी के लाल डॉ० लेनिन रघुवंशी एवं उनकी ही जीवन संगिनी जोकि सामाजिक कार्यकर्ता एवं महिला अधिकार की लड़ाई लड़ने वाली श्रुति नागवंशी ने पूर्व में कई अवार्डों से सम्मानित होने के साथ आज पुनः देश का नाम ऊंचा किया है।
वैसे तो उपरोक्त सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कई सम्मान अर्जित करते हुए भारत देश ही नहीं बल्कि बनारस के भी नाम ऊंचा किया है एवं इनकी कार्यशैली पर पुनः देश का मान बढ़ाया है।
इस बार मर्दानगी से प्रेरित सैन्यवादी परंपराओं से जूझने के लिए किये गये प्रयास के चलते डॉ० लेनिन रघुवंशी और श्रुति नागवंशी को नोबेल प्राइज वॉच की और से नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नामित किया गया है। नोबेल पीस प्राइज वाच (http://www.nobelwill.org/) नोबेल पीस प्राइज के लोकतांत्रिकीकरण के लिए लगा हुआ है।

इसके साथ ही नोबेल की वसीयत के अनुसार नोबेल पीस प्राइज सैन्यकरण के कारणों को समाप्त करने वाले लोगों और संस्थाओं को दिया जाना चाहिए, के लिए कोर्ट से लेकर लड़ रहे है।

नोबेल शांति पुरस्कार वॉच में साल 2021 के नोबेल शांति पुरस्कार पाने के योग्य के रूप में नामांकित 50 उम्मीदवारों की स्क्रीन की हुई सूची प्रस्तुत करती है। सूची हमारी सेवा से नामांकित और उम्मीदवारों के लिए परिणाम है।

इसके साथ ही समिति को वास्तविक उम्मीदवारों की एक विस्तृत श्रृंखला भी प्रदान की जाती है। समिति अल्फ्रेड नोबेल के वसीहतनामा 27 के शांति विचारों को बढ़ावा देने और संवाद करने के लिए सबसे उपयुक्त व्यक्ति को उठाती है।

साल 2021 के लिए नॉर्वेजियन नोबेल समिति को शांति पुरस्कार के लिए लगभग 400 नामांकन मिले हैं। 1895 में अल्फ्रेड नोबेल के वसीयतनामे में निर्धारित उद्देश्य के अनुपालन के लिए एनपीपीडब्ल्यू को ज्ञात नामांकन इस प्रकार हैं। इसके बाद यह समिति कानून द्वारा बाध्य है कि वह युद्ध को खत्म करने के नोबेल के दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए सबसे अनुकूल व्यक्ति का चयनित करे।

डॉ० लेनिन रघुवंशी एवं श्रुति नागवंशी के नामांकन की खबर आने के बाद लोगों में खुशी का ठिकाना नहीं रहा, जैसे ही इस खबर की पुष्टि आधिकारिक रूप से की गई तो समर्थकों द्वारा शुभकामनाएं देने का तांता से लग गया।

उक्त दम्पति द्वारा समाजहित में किये जा रहे कार्यों की सराहना साफ देखने को मिल रही है इसी का एक और उदाहरण है कि प्राइज़ वाच द्वारा दिया जाने वाला ये नोबेल शांति पुरस्कार की घोषणा।

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: