ओलिंपिक से आस टूटी: विदेशी दर्शक बैन, जापानियों पर फैसला नहीं, 23 हजार करोड़ दे चुकी कंपनियों ने रद्द किए कैंपेन, ऑफरिंग घटाई


  • Hindi News
  • International
  • Foreign Visitors Ban, No Decision On Japanese, Companies That Have Given 23 Thousand Crores Canceled Campaigns, Reduced Offerings

टोक्यो4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

स्कैटबोर्डिंग की प्रैक्टिस करती कोतोने निशिमुरा।

टोक्यो ओलिंपिक 23 जुलाई से शुरू होने हैं। दो महीने से भी कम बचे हैं। पर जापान की असाही ब्रुअरीज को अभी पता नहीं है कि प्रशंसकों को उसकी बीयर खरीदने के लिए स्टेडियमों में मंजूरी मिलेगी या नहीं। महामारी और धीमे वैक्सीन लॉन्च ने जापान को ओलिंपिक आयोजन में बैकफुट पर ला दिया है। विदेशी दर्शकों को अनुमति नहीं है और घरेलू दर्शकों पर फैसला हुआ नहीं है।

इससे सबसे ज्यादा तनाव में स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर की वे 60 कंपनियां हैं, जिन्होंने टोक्यो ओलिंपिक खेलों के लिए स्पॉन्सरशिप दी थी। इन्होंने करीब 22 हजार करोड़ रुपए दांव पर लगाए। पिछले साल ओलिंपिक स्थगित होने पर अनुबंध बढ़ाने के लिए 1500 करोड़ और खर्च किए। पर नतीजा उम्मीदों भरा नहीं दिख रहा। कंपनियों की बड़ी चुनौती यह है कि वे अपने एड कैंपेन को कैसे आगे बढ़ाएं या बढ़ाएं भी कि नहीं। असाही को ही लीजिए, इसके पास स्टेडियमों में बीयर, वाइन और सॉफ्ट बीयर बेचने के विशेष अधिकार हैं। पर जब तक दर्शकों पर फैसला नहीं होता।

वह कुछ तय नहीं कर सकती। दर्शकों को मंजूरी मिल भी गई तो भी सरकार ऑफ-साइट सार्वजनिक स्थलों पर शराब की मंजूरी शायद ही देगी। ग्लोबल स्पॉन्सर टोयोटा मोटर कॉर्प अपनी इनोवेटिव टेक्नोलॉजी दिखाना चाहती थी। उसने एथलीटों और वीआईपी को लाने-ले जाने के लिए 500 मिराई हाइड्रोजन सेडान समेत 3700 गाड़ियां उतारने की योजना बनाई थी। एथलीटों के लिए ओलिंपिक विलेज में सेल्फ ड्राइविंग पॉड्स की व्यवस्था भी की जानी थी। कंपनी से जुड़े सूत्र ने कहा कि यह सब होगा, पर बहुत छोटे पैमाने पर। हमने जो उम्मीद और कल्पना की थी, उससे बहुत-बहुत दूर।

ट्रैवल एजेंसियों जेटीबी कॉर्प और टोबू टॉप टूर्स कंपनी ने भी पैकेज लॉन्च किए, पर अब उन्हें रद्द कर सकती हैं। कंपनियों ने कहा है कि दर्शकों को मंजूरी नहीं मिली या खेल रद्द हुए तो वे उन्हें रिफंड करेंगी। ये जापान के शीर्ष सीईओ को टूर प्रोग्राम देने वाले थे, जिनमें चर्चित हस्तियों और एथलीटों के साथ स्वागत पार्टियां, निजी कार और सैलून शामिल थे। इन योजनाओं को होटल में ठहराने या उपहारों से जुड़े खेलों के टिकटों तक सीमित कर दिया है।

वैश्विक प्रायोजक टोक्यो का बजट घटाकर बीजिंग-पेरिस के लिए रख रहे

जॉर्जटाउन यूनिवर्सिटी में मार्केटिंग के एसोसिएट प्रो. क्रिस्टी नॉर्डिएलम ने कहा- ‘विज्ञापनदाता और कंपनियों पर पर्यटकों और प्रतिभागियों की कमी का सीधा प्रभाव पड़ता है। कुछ जापानी कंपनियों ने तो एथलीटों के साथ विज्ञापनों की योजना रद्द कर दी हैं। कुछ शीर्ष वैश्विक प्रायोजक, जिनके अनुबंध 2024 तक वैध हैं, वे टोक्यो में फंडिंग घटाकर 2022 में बीजिंग या 2024 में पेरिस खेलों के लिए बजट रोक रहे हैं। टोक्यो की एड कंपनी मि. पॉजिटिव के पीटर ग्रासे कहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय कंपनियों के लिए यह मुफीद हो सकता है। पर स्थानीय के पास एक ही ओलिंपिक है। इसलिए हम हार मानकर नहीं बैठ सकते। हरसंभव कोशिश करेंगे।

खबरें और भी हैं…



Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *