ब्लैक फंगस से निपटने के लिए बना 30 बेड का स्पेशल वार्ड, अब विम्स में होगा रोगियों का इलाज

[ad_1]

ब्लैक फंगस से निपटने के लिए नालंदा जिले के पावापुरी वर्धमान आयुर्विज्ञान संस्थान (विम्स) में 30 बेड का स्पेशल वार्ड बनकर तैयार है। हालांकि, कुछ आधुनिक उपकरण यहां लगने बाकी हैं। उपकरणों की सूची को बिहार मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी लिमिटेड (बीएमसीआईसीएल) को भेज दी गयी है। वहां से जल्द ये मशीनें आ जाएंगी।

इन वार्डों में आधुनिक मशीनें लगते ही ब्लैक फंगस के रोगियों का इलाज शुरू हो जाएगा। फिलहाल, यहां ब्लैक फंगस का एक भी रोगी नहीं है। लेकिन, मेडिकल कॉलेज इसके लिए हाई अलर्ट पर है। सभी तरह की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। रोस्टर के अनुसार डॉक्टरों की तैनाती भी कर दी गयी है।

यहां ईएनटी विभाग के पास ही ब्लैंक फंगस का वार्ड बनाया गया है। प्राचार्य प्रो. डॉ. पीके चौधरी ने बताया कि स्पेशल वार्ड के लिए ईएनटी के विभागाध्यक्ष से और मशीन व उपकरण की आवश्यकता के मद्देनजर सूची मंगवायी थी। पर्याप्त दवाएं भी ब्लैक फंगस के इलाज के लिए वार्ड में उपलब्ध करा दी गयी हैं। पहले यहां कोरोना रोगियों का ही इलाज किया जाता रहा है।

पोस्ट कोविड रोगियों का अब छह दिन होगा इलाज
कोरोना की दूसरी लहर में गिरावट के चलते अब पावापुरी विम्स में रविवार को छोड़कर अन्य छह दिन पोस्ट कोविड रोगियों का इलाज किया जाएगा। प्रो. चौधरी ने बताया कि इस सप्ताह तक हर सप्ताह सोमवार व शुक्रवार को ही पोस्ट कोविड रोगियों का इलाज किया जाता था।

सोमवार से नए रोस्टर के अनुसार सप्ताह में छह दिन ऐसे रोगियों का इलाज किया जाएगा। शनिवार की बैठक में इसका भी निर्णय लिया गया। ताकि अधिक से अधिक रोगियों का इलाज किया जा सके। बैठक में डॉ. अशोक कुमार, डॉ. रश्मि, डॉ. सतीश कुमार, डॉ. धर्मेंद्र कुमार व अन्य मौजूद थे।

संबंधित खबरें

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: