सहायता अभियान: भारतीय कोस्ट गार्ड के वैभव और वज्र जहाज कोलंबो बंदरगाह पहुंचे, सिंगापुर के जहाज में लगी आग बुझाने में मदद करेंगे

[ad_1]

  • Hindi News
  • International
  • Sri Lanka Burning Ship Latest Update; Indian Coast Guard Ships Vessels Vaibhav, Vajra At Colombo

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली/ कोलंबो11 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
कोलंबो बंदरगाह पर सिंगापुर के इसी जहाज में आग लगी है। - Dainik Bhaskar

कोलंबो बंदरगाह पर सिंगापुर के इसी जहाज में आग लगी है।

सिंगापुर के कार्गो शिप पर लगी आग को बुझाने के लिए भारतीय तटरक्षक बल (आईसीजी) के जहाज ‘वैभव’ और ‘वज्र’ कोलंबो बंदरगाह के पास पहुंच गए हैं। पांच भारतीयों समेत सभी 25 चालक दल सदस्यों को पहले ही सुरक्षित निकाल लिया गया है, लेकिन जहाज पर खतरनाक रसायनों से भरे 1,486 कंटेनर लदे होने की वजह से अब तक बड़ा खतरा अभी टला नहीं है।

कोलंबो बंदरगाह के पास खराब मौसम के कारण हुआ हादसा

सिंगापुर के जहाज एमवी एक्स-प्रेस पर्ल ने 15 मई को भारत के हजीरा बंदरगाह से 25 टन नाइट्रिक एसिड और अन्य रसायनों सहित 1,486 कंटेनर लोड किए थे। वापस अपने मुल्क जाते समय हजीरा से कोलंबो के रास्ते में कोलंबो बंदरगाह, श्रीलंका से लगभग 9 समुद्री मील की दूरी पर खराब मौसम के कारण कुछ कंटेनर समुद्र में गिरकर बह गए। कई कंटेनर ढहकर जहाज पर ही गिर पड़े और उनमें एक विस्फोट के बाद आग लग गई। लगभग 25 टन खतरनाक नाइट्रिक एसिड और अन्य रसायनों से लदे इस जहाज में आग ने भीषण रूप ले लिया। विस्फोट और जहाज में आग लगने के बाद करीब 8-10 और कंटेनर समुद्र में गिर गए। पोत के 25 सदस्यीय चालक दल में फिलीपींस, चीनी, भारतीय और रूसी नागरिक शामिल थे। सभी को सुरक्षित बचा लिया गया है।

भारतीय जहाज मदद के लिए पहुंचे

इस घटना के बाद श्रीलंकाई नौसेना ने आग बुझाने के प्रयास शुरू करने के साथ ही विस्फोट के बाद जहाज को खाली करा लिया। नीदरलैंड, बेल्जियम और भारत से मदद मांगी। श्रीलंकाई नौसेना ने आग बुझाने के लिए पांच टगबोट तैनात किए और उनकी मदद के लिए नौसेना के एक जहाज ने पास में लंगर डाला। जहाज पर लगी आग पर अगले दिन पोर्ट अधिकारियों की मदद से काबू पाया गया। नीदरलैंड और बेल्जियम के विशेषज्ञ जहाज का सर्वेक्षण कर रहे हैं, जबकि तेज हवाओं ने आग को तेज कर दिया है। श्रीलंकाई वायुसेना की ओर से जारी तस्वीरों में जहाज एमवी एक्सप्रेस पर्ल आग की लपटों और घने धुएं में घिरा हुआ दिखाई दे रहा है। भारतीय तटरक्षक बल (आईसीजी) ने अपने जहाजों वैभव और वज्र को भेजा है। आग बुझाने में मदद के लिए एक विमान भेजने की तैयारी है।

ऑपरेशन पर आईसीजी की भी नजर
इंडियन कोस्ट गार्ड (आईसीजी) के प्रवक्ता के अनुसार, श्रीलंका भेजे गए दोनों जहाज बाहरी फोम आग बुझाने और पॉल्यूशन रोकने में सक्षम हैं। इसके अलावा, कोच्चि, चेन्नई और तूतीकोरिन में आईसीजी फॉर्मेशन तत्काल सहायता के लिए तैयार हैं। हवाई निगरानी और प्रदूषण प्रतिक्रिया के लिए आईसीजी के विमान चेन्नई और कोच्चि से तूतीकोरिन लाए जा रहे हैं। ऑपरेशन के लिए आईसीजी के अधिकारी लगातार श्रीलंकाई अधिकारियों के संपर्क में है।

ये पहला मौका नहीं है जब भारत ने इस तरह की सहायता भेजी हो। इससे पहले सितंबर 2020 में भी श्रीलंका के समुद्र तट से 37 मील दूर पनामा के पोत ‘एमटी न्यू डायमंड’ में लगी आग को बुझाने के लिए भारतीय नौसेना और भारतीय तटरक्षक बल पहुंचे थे। इस बीच जहाज में विस्फोट भी हुआ, लेकिन भारतीय सेना ने चालक दल के 22 सदस्यों को बचा लिया। पनामा के इस जहाज में लगी आग को पूरी तरह बुझाने में दो दिन लगे थे।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *