राज्य सरकार का ये क्रांतिकारी फैसला पुलिस उप-निरीक्षक बनने के सपने को पूरा करेगा

राज्य सरकार का ये क्रांतिकारी फैसला पुलिस उप-निरीक्षक बनने के सपने को पूरा करेगा

मुंबई, 15/10/2021 – राज्य सरकार ने राज्य के हजारों पुलिस कांस्टेबलों के लिए एक महत्वपूर्ण क्रांतिकारी फैसला लिया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज इस संबंध में प्रस्ताव को मंजूरी दे दी, जो राज्य के अधिकारियों के पुलिस उप-निरीक्षक बनने के सपने को पूरा करेगा। वे वर्षों की सेवा के बाद भी पुलिस उपनिरीक्षक के पद पर नहीं पहुंच सके लेकिन पदोन्नति के फैसले से अगले कुछ महीनों में लगभग 45,000 कांस्टेबल, सहायक पुलिस निरीक्षक और पुलिस उप-निरीक्षकों को सीधे लाभ होगा।

यह निर्णय पुलिस संवर्ग के एक अधिकारी को कम समय में पदोन्नति के 3 से कम अवसरों के साथ पद से सेवानिवृत्त होने की अनुमति देगा।

सब-इंस्पेक्टर स्तर के अधिकारियों की बड़ी संख्या से पुलिस अधिकारियों की आवश्यकता पूरी होगी और पुलिस बल में पुलिस कांस्टेबलों और सहायक उप-निरीक्षकों की संख्या में तेजी से वृद्धि होगी।

इसके अलावा पुलिस आरक्षक से लेकर सहायक पुलिस उपनिरीक्षक तक की पदोन्नति शृंखला में पुलिस नायक के पद भी बाधित रहेंगे। पुलिस महानिदेशक संजय पांडेय के स्तर पर गृह मंत्री दिलीप वळसे पाटिल के मार्गदर्शन में पिछले छह महीने से प्रस्ताव पर काम चल रहा है। मुख्य सचिव सीताराम कुंटे की अध्यक्षतावाली एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने सौदे को सील करने के बाद, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज प्रस्ताव को मंजूरी दे दी, जिसमें तत्काल कार्रवाई करने और एक निर्णय जारी करने का निर्देश दिया गया।

  मूल रूप से , इस प्रस्ताव का उद्देश्य पुलिस कांस्टेबल के पद से एक व्यक्ति को पुलिस उप-निरीक्षक के पद पर पदोन्नत करना और वैकल्पिक रूप से पुलिस के मनोबल और आत्मविश्वास को बढ़ाना और उनकी दक्षता में वृद्धि करना है।  इस निर्णय से प्रत्येक पुलिस थाने में आपराधिक गतिविधियों की जांच के लिए बड़ी संख्या में अधिकारी उपलब्ध होंगे और अपराधों की जांच के साथ-साथ दोषसिद्धि में भी काफी तेजी आएगी।
प्रमोशन का लंबा इंतजार अब खत्म

इस फैसले से अब पुलिस अधिकारी पुलिस उपनिरीक्षक के पद से औसतन 35 साल के लिए सेवानिवृत्त हो सकेंगे। चूंकि पुलिस कर्मियों को आमतौर पर 12 से 15 साल के बाद पदोन्नत किया जाता है, उनका मनोबल कम होता है और उनके प्रदर्शन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। पुलिस अधिकारियों को पदोन्नति श्रृंखला में पुलिस चपरासी, पुलिस नाइक, पुलिस कांस्टेबल, सहायक पुलिस उप-निरीक्षक नाम से पदोन्नति के तीन अवसर मिलते हैं। आमतौर पर किसी पद को 10 साल की सेवा के बाद पदोन्नत किया जाना चाहिए, लेकिन शीर्ष श्रेणी में पदों की संख्या कम होने के कारण इसमें अपेक्षा से अधिक समय लगता है।

वर्तमान में कुछ सहायक पुलिस उपनिरीक्षक के रूप में 3 वर्ष की सेवा पूर्ण होने से पहले सेवानिवृत्त हो जाते हैं, या कुछ अधिकारी पुलिस आरक्षक के पद से सेवानिवृत्त हो जाते हैं। ऐसे अधिकारियों को पुलिस उपनिरीक्षक के पद पर पदोन्नत होने का मौका नहीं मिलता। इस फैसले से उन्हें काफी फायदा होगा।

अपराध रोकने में बड़ी मदद

इस निर्णय से न केवल अपराधों को सुलझाने में मदद मिलेगी बल्कि आम जनता की मदद लेकर पुलिस बल की छवि में भी सुधार आएगा। संख्या वृद्धि की दृष्टि से पुलिस बल की वर्तमान संख्या 37,861 से 51,210 और सहायक पुलिस उप निरीक्षकों की संख्या 15,270 होगी 170,771। कुल 15,150 अतिरिक्त जांच अधिकारी उपलब्ध होने से प्रत्येक थाने में 13 अतिरिक्त अधिकारी उपलब्ध रहेंगे।

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *