ऑस्ट्रेलियाई मीडिया का दावा: चीन ने भूटान के 8 KM अंदर गांव बसाया, पुलिस स्टेशन, गोदाम, पावर प्लांट और कम्युनिस्ट पार्टी का ऑफिस भी बनाया

[ad_1]

  • Hindi News
  • International
  • China Slowly Invading । Himalayan Neighbour Bhutan । Constructs Village Almost 8 Kilometres Into Bhutan

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

​​​​​​​बीजिंग/थिंपू7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
फोटो 2015 की है, जब चीन ने ग्यालाफुग गांव में सिर्फ एक बिल्डिंग बनाई थी। -  फाइल - Dainik Bhaskar

फोटो 2015 की है, जब चीन ने ग्यालाफुग गांव में सिर्फ एक बिल्डिंग बनाई थी। – फाइल

चीन की विस्तारवादी नीति जारी है। तिब्बत को कब्जाने के बाद लंबे समय से ड्रैगन 8 लाख की आबादी वाले भूटान पर नजरें गड़ाए बैठा है। ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने दावा किया है कि चीन ने भूटान के 8 किलोमीटर अंदर ग्यालाफुग नामक गांव बसा लिया है। यहां सड़कों से लेकर बिल्डिंग और पुलिस स्टेंशन से लेकर आर्मी बेस तक सब बनाया जा चुका है। इस गांव में पावर प्लांट, गोदाम और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना का ऑफिस भी है।

रिसर्च जनरल में छपी रिपोर्ट का हवाला देते हुए ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने रिपोर्ट जारी की है। रिपोर्ट में बताया गया है कि चीन के कब्जे वाले ग्यालाफुग गांव में 100 से ज्यादा लोग और इतनी ही संख्या में याक मौजूद हैं। कंस्ट्रक्शन वर्कर्स का आना-जाना भी यहां लगा रहता है। रिपोर्ट के मुताबिक ये इलाका भारत के अरुणाचल प्रदेश से लगा हुआ है और चीन अरुणाचल पर भी दावा करता आया है। इसलिए माना जा रहा है कि भूटान की जमीन कब्जाने के पीछे असली निशाना भारत है।

दोनों देशों के बीच 470 किलोमीटर लंबी बॉर्डर
ऑस्ट्रेलियन मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक चीन ये बात समझ चुका है कि तिब्बत 1 अरब 40 करोड़ की आबादी वाले चीन का ज्यादा विरोध नहीं कर पाएगा। चीनी सैनिकों ने यहां एक बड़ा सा बैनर टांग दिया है। इसमें लिखा है, ‘शी जिनपिंग पर विश्वास बनाए रखें।’ हाल ही में सीमा विवाद को लेकर दोनों देशों के बीच कुनमिंग शहर में 25 बैठक हुई है। दोनों देश 470 किलोमीटर लंबी बॉर्डर शेयर करते हैं। हालांकि, बॉर्डर के बंटवारे को लेकर भूटान और चीन के तर्क अलग-अलग हैं।

1980 के चीनी नक्शे में भूटान में दिखाया गांव
इस जमीन पर कब्जा करके चीन 1998 के एग्रीमेंट का उल्लंघन कर रहा है। चीन के इस तक जमीन कब्जाने से भूटान के लोगों में निराशा बढ़ रही है। रिपोर्ट के मुताबिक 1980 में चीन का जो नक्शा था, उसमें ग्यालाफुग को भूटान के अंदर ही दिखाया गया था। भूटान भी मानता है कि चीन जिस जमीन पर अपना दावा ठोंक रहा है, वो उनके लिए भी नया है। इससे पहले चीन ने इस जमीन पर कभी दावा नहीं किया।

भूटान की 12% जमीन पर दावा जताता है चीन
चीनी मामलों के विशेषज्ञ रॉबर्ट बर्नेट का कहना है कि चीन ये सब एक खास रणनीति के तहत कर रहा है। वह चाहता है कि इन गतिविधियों के कारण भूटान उसका विरोध करना शुरू करे और वह कब्जाई जमीन पर अपना दावा ठोंक दे। बर्नेट कहते हैं, बुद्धिस्ट आबादी वाले भूटान और चीन के कब्जे वाले तिब्बत में बहुत सी चीजें कॉमन हैं।

भूटान के चीन के मुकाबले भारत से ज्यादा अच्छे संबंध हैं। भूटान सबसे ज्यादा व्यापार भी भारत के साथ ही करता है। इसके उलट चीन की भूटान में एंबेसी तक नहीं है। चीन, भूटान के कुल क्षेत्रफल का 12 प्रतिशत हिस्से पर अपना दावा जताता है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ताकत बढ़ने के साथ चीन की दादागीरी भी बढ़ती जा रही है। इसी तरह चीन साउथ चाइन सी पर भी बहुत सा हिस्सा क्लेम करने लगा है।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *