टीकाकरण में देरी: हर सेंटर का स्लाॅट पहले एक मिनट में ही बुक; कहीं काेई घपलेबाजी ताे नहीं,लाेगाें का सवाल

[ad_1]

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिमला4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • 18+ के लिए कोरोना वैक्सीन लगाने के स्लॉट बुकिंग में लोग हुए हताश

शनिवार काे 18 से 44 आयुवर्ग के लिए वैक्सीनेशन का बुकिंग स्लाॅट खुला। 2:30 बजे इस स्लाॅट के खुलने का टाइम तय किया गया था, मगर जैसे ही स्लाॅट खुला अगले एक मिनट में ही सारे सेशन बुक दिखा दिए गए। इसमें अधिकांश युवा जाे अपने पूरे परिवार काे साथ लेकर बुकिंग में बैठे थे, उनका एक भी स्लाॅट बुक नहीं हाे पाया।

ऐसे में अब युवा इसमें सवाल उठाने लगे हैं कि कहीं इसमें काेई घपलेबाजी ताे नहीं है। क्याेंकि जब वैक्सीनेशन स्लाॅट खुलने का समय एक ही तय किया गया है ताे यह तुरंत बुक कैसे दिखा देता है। जबकि इसमें बुकिंग से पहले ओटीपी आता है, जिसे भरने में भी कुछ समय लग जाता है। युवाओं ने अंदेशा जताया है कि शायद इसमें कुछ अधिकारी और बड़े नेताओं के खास लाेगाें के लिए भी बुकिंग पहले से हाे सकती है, क्याेंकि ऐसा संभव नहीं है कि अगर परिवार के छह से सात लाेग बुकिंग करने बैठे हों और वह भी एडवांस ताे पूरे जिलाभर में उन्हें एक भी स्लाॅट ना मिले।

वैक्सीनेशन के लिए शनिवार काे युवाओं ने जैसे ही स्लाॅट ओपन हुआ ताे युवाओं काे आसपास के सारे स्लाॅट बुक दिखा दिए। ऐसे में कई युवाओं अपने अपने घराें से 30 से 40 किलाेमीटर दूर वैक्सीनेशन सेंटर में भी बुकिंग करने की साेची, मगर वहां पर भी सभी स्लाॅट फुल दिखा दिए गए। यहां तक कि जिलाभर में एक मिनट में काेई भी स्लाॅट खाली नहीं आया। ऐसे में अब युवाओं का सवाल यह भी है कि यदि सारे सेशन तुरंत बुक हाे रहे हैं ताे युवा वैक्सीन कैसे लगवा पाएंगे।

वैक्सीनेशन स्लाॅट खुलने में बड़ी घपलेबाजी इसलिए भी नजर आ रही है क्याेंकि इसमें जैसे ही स्लाॅट ओपन हाेता है ताे करीब 80 से 85 फीसदी तक वैक्सीनेशन सेशन बुक दिखाए जा रहे हैं। यह स्लाॅट ओपन हाेने के 10 से 15 सैकेंड में दिखा दिए जाते हैं, जबकि बुकिंग करने के प्राेसेस में भी 25 से 30 सैकेंड का समय लगता है। ऐसे में वह एडवांस बुक कैसे दिखा दिए जाते हैं यह भी बड़ा सवाल है। जिला में वैक्सीनेशन पहले ही कम हाे रही। 2700 लाेगाें काे एक दिन में वैक्सीन लगाई जा रही है ताे सवाल यह भी है कि इतनी जल्दी यह सेशन कैसे बुक हाे रहे हैं।

पूरा परिवार कर रहा था बुक, नहीं लगा नंबर :अजय

राेहड़ू के अजय चाैहान ने बताया कि वह अपने पूरे परिवार के साथ 2:20 बजे स्लाॅट बुकिंग के लिए बैठ गए थे, मगर 2:32 बजे केवल सभी सेशन बुक बताए गए। उन्हाेंने बताया कि पिछली बार भी उनके साथ ऐसा ही हुआ। उन्हाेंने कहा कि यह युवाओं के साथ खिलवाड़ है। क्याेंकि बाहर से आकर लाेग हमारे आसपास वैक्सीन लगवा रहे हैं, जबकि स्थानीय लाेगाें की बुकिंग ही नहीं हाे पा रही।

वैक्सीन नहीं ताे क्याें किया जा रहा मजाक : विक्रम

टुटू के विक्रम शर्मा का कहना है कि वह शनिवार काे स्लाॅट बुकिंग के लिए काफी देर से बैठे थे। मगर जैसे ही स्लाॅट खुला ताे उसमें बुकिंग पहले ही दिखा दी। उनका कहना है कि अगर सरकार के पास वैक्सीन की कमी है ताे युवाओं के साथ मजाक क्याें किया जा रहा है। सरकार पहले वैक्सीन का इंतजाम कर ले, उसके बाद आसपास की पीएचसी में वैक्सीन लगवाएं, जैसे 45 साल से अधिक आयु वर्ग के लिए लगाई गई, ताकि युवाओं काे ठगा सा महसूस ना हाे।

2ः15 पर ही कर दिया था शुरू, नहीं हुआ बुक स्लाॅट : प्रवीण

शिमला के प्रवीण शर्मा ने बताया कि वह 2:15 बजे ही बुकिंग के लिए बैठ गए थे, जैसे ही स्लाॅट ओपन हुआ, बुकिंग फुल दिखा दी। उनका कहना है कि बुकिंग जानबूझकर खाेली जा रही है, जबकि इसमें पहले ही लाेगाें काे बुक किया गया हाेगा। इसमें आम लाेगाें काे वैक्सीन लगवाने के लिए अभी कई महीनें इंतजार करना पड़ेगा। क्याेंकि पहले वीआईपी काे वैक्सीन लगवाई जा रही है।

पूरे-पूरे परिवार बैठे थे, एक का भी सेशन बुक नहींः राजीव सूद

टुटू व्यापार मंडल के प्रधान राजीव सूद का कहना है कि शनिवार काे वैक्सीनेशन स्लाॅट जैसे ही ओपन हुआ ताे इसे तुरंत ही बुक दिखा दिया गया। उन्हाेंने कहा कि इसमें काेई घपला है क्याेंकि पूरे-पूरे परिवार इसमें बुकिंग के लिए बैठे थे, जबकि एक भी व्यक्ति का सेशन बुक नहीं हुआ। उन्हाेंने सरकार से मांग उठाई कि इसे पिनकाेड नंबर, वार्ड या पंचायत स्तर पर कर देना चाहिए। केवल वही लाेग वैक्सीन लगवा सकेंगे जाे उस वार्ड या पंचायत में आते हैं।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *