बिहार में दूसरी लहर के मात्र दो महीने में 2478 मरीजों की मौत, 1561 मौतें हुईं थी पहली लहर के 12 महीनों में


बिहार में कोरोना की पहली लहर के दौरान 12 महीनों में 1561 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौतें हुईं जबकि दूसरी लहर के मात्र दो माह ( 59 दिनों)  में 2478 मौतें हो चुकी हैं। राज्य में 22 मार्च 2020 को कोरोना से पहली मौत हुई थी। तब से 22 मार्च 2021 तक मौत की दर 0.5 फीसदी थी। जबकि 18 मई तक मौत की दर 0.6 फीसदी हो गई है। पिछले दो माह में 0.1 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। कोरोना की पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर में मौतों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। कोरोना की दूसरी लहर ज्यादा जानलेवा साबित हो रही है।  

पिछले एक माह में 2249 मौतें
राज्य में पिछले एक महीने में कोरोना से 2249 मौतें हुई हैं। 19 अप्रैल, 2021 तक राज्य में कोरोना संक्रमितों की मौत की संख्या 1790 थी जबकि 18 मई 2021 तक यह संख्या बढ़कर 4039 हो गयी। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार, राज्य में दूसरी लहर के दौरान मृतकों में 20 से 29 साल के 25.3 फीसदी मृतक शामिल हैं। जबकि 10 से 19 साल के 19.9 फीसदी मृतक हैं । 50 से 59 साल के सबसे कम 7.5 फीसदी कोरोना संक्रमित मरीज मृत हुए हैं। पिछले 10 दिनों में राज्य में कोरोना संक्रमित 757 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गयी। 9 मई 2021 तक राज्य में कोरोना संक्रमित 3282 मरीजों की मौत हुई थी। जबकि अबतक 4039 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। इस प्रकार, पिछले 10 दिनों में औसतन 75 संक्रमितों की मौत प्रतिदिन हो रही है।



Source link

Leave a Reply

%d bloggers like this: