बच्चों को परेशानी का सामना: गांव में नहीं आता सिग्नल, घर से दो किलोमीटर दूर ‘जंगल में पाठशाला’

[ad_1]

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिमला20 घंटे पहलेलेखक: जोगेंद्र शर्मा

  • कॉपी लिंक
इंटरनेट कनेक्टिविटी ना होने के कारण बच्च जंगल में पढ़ने पहुंच रहे हैं। - Dainik Bhaskar

इंटरनेट कनेक्टिविटी ना होने के कारण बच्च जंगल में पढ़ने पहुंच रहे हैं।

  • जुब्बल कोटखाई की पंचायत गराउग में नहीं है इंटरनेट कनेक्टिविटी, बच्चों की कक्षाएं इन दिनों ऑनलाइन, यहां ढूंढ रहे सिग्नल

जुब्बल कोटखाई की पंचायत गराउग में मोबाइल सिग्नल की दिक्कत होने के चलते बच्चों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इंटरनेट कनेक्टिविटी ना होने के कारण बच्चों को 2 किलोमीटर दूर जंगल में जाकर कक्षाएं लगानी पड़ रही हैं। समाजसेवी अजय भेरटा ने मांग उठाई है कि हम पूरी तरह से इंटरनेट पर डिपेंड है, हमारा बैंकिंग सिस्टम से लेकर अन्य बिलों को जमा करना इंटरनेट पर निर्भर है।

इस कारण बड़ा नुकसान हो रहा है। नेट कनेक्टिविटी ना होने के कारण बच्चों को भी उन्हें दूर-दूर तक नेट ढूंढने जाना पड़ता है, लेकिन वह भी बहुत मुश्किल से मिल पाता है। पूरी पंचायत में लगभग 80 प्रतिशत एरिया ऐसा है, जहां पर कनेक्टिविटी नहीं है। उनका कहना है कि जल्द ही सरकार के समक्ष इस मुद्दे को उठाया जाएगा। हमें उम्मीद है कि लोगों की भावनाओं को देखते हुए इस पर जल्द ही अमल किया जाए।

सुबह अभिभावकों के साथ जाते हैं जंगल, क्लास लगाने के बाद आते हैं वापस

अभिभावक पवन चौहान, विक्रम चौहान, मुकेश, श्यामलाल और अक्षय का कहना है कि सिग्नल ना होने की वजह से बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह से प्रभावित हो रही है। गांव के साथ लगते जंगल में कई कंपनी के सिग्नल आते हैं। सुबह बच्चों को साथ ले जाकर वहां पर ऑनलाइन पढ़ाई करवाते हैं। शाम को यहां से वापस आ जाते हैं।

ऐसे में इन दिनों यह हमारा रुटीन हो गया है। उनका कहना है कि सरकार और प्रशासन मदद करे और जल्द से जल्द यहां पर कंपनियां अपने टावर लगाएं ताकि पंचायत के लोगों को फायदा मिल सके।

बीएसएनएल का टावर, रहता है खराब

गराउग में बीएसएनल की ओर से टावर लगाया गया है, लेकिन यह टावर अक्सर खराब रहता है। इंटरनेट कनेक्टिविटी काफी पुअर है और मौसम खराब रहने पर यहां पर सिग्नल बिल्कुल भी नहीं आता है। पंचायत की लगभग 2000 आबादी को सिग्नल के लिए तरसना पड़ रहा है। लोगों का आरोप है कि कुछ समय पहले कंपनियों ने यहां पर सर्वे तो किया था लेकिन टावर लगाने के लिए कोई भी आगे नहीं आ रही है।

सेब के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध, इंटरनेट है नहीं

सेब उत्पादक क्षेत्रों में सबसे ज्यादा सेब का उत्पादन जुब्बल कोटखाई और चौपाल क्षेत्र में होता है। विश्व भर में यहां का सेब प्रसिद्ध है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि यहां पर इंटरनेट सुविधा अभी तक लोगों को सही ढंग से नहीं मिल पाई है। लोगों का आरोप है कि सुविधा देने के लिए कोई भी कंपनी आगे नहीं आती है। सरकार से भी बार-बार इस संबंध में आग्रह किया जाता है। इसके बावजूद भी किसी तरह की सहायता नहीं की जाती है।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: