तूफान ताऊ ते की गुजरात में एंट्री: सोमनाथ, वेरावल, ऊना और कोडिनार में 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवा, 21 जिलों में बारिश

[ad_1]

  • Hindi News
  • National
  • Cyclone Tauktae Tracking Update; Gujarat Mumbai News | Cyclonic Storm Tauktae Latest News Photo Video, Indian Meteorological Department Rain Alert Today

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली2 दिन पहले

अरब सागर से उठा चक्रवात ‘ताऊ ते’ गुजरात पहुंच गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, करीब 9 बजे इसकी लैंडफॉल प्रोसेस शुरू हुई। इसके बाद तूफान गिर-सोमनाथ के ऊना पहुंचा और धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है। इसके असर से 4 जिलों में तेज हवा और बारिश हो रही है। नवसारी जिले के कई इलाकों में तेज बारिश हुई है। एहतियात के तौर पर कांठा संभाग के 16 गांवों में बिजली काट दी गई है। ऊना में तेज हवा से करीब 200 पेड़ उखड़ गए हैं। इससे बिजली सप्लाई पर असर पड़ा है।

वेरावल, सोमनाथ, ऊना, कोडिनार सहित तटीय इलाकों में 130 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चल रही है। उधर, मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ताजा हालात जानने के लिए गांधीनगर के स्टेट कंट्रोल रूम पहुंचे। उन्होंने कलेक्टरों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए तटीय जिलों समेत राज्य की स्थिति की समीक्षा की। रूपाणी ने कहा कि तूफान के दौरान 150 किमी की रफ्तार से हवा चल सकती है।

तूफान 3 घंटे में 5 जिलों से टकराएगा
तूफान के कुछ घंटे में सौराष्ट्र पहुंचने की आशंका है। यहां सबसे ज्यादा 10 इंच बारिश होने का अनुमान है। 3 घंटे में यह राज्य के 5 जिलों भावनगर, अमरेली, गिर-सोमनाथ, जूनागढ़ और पोरबंदर से टकराएगा। राज्य के 21 जिलों की 84 तहसीलों में बारिश शुरू हो गई है। कई गांवों में 1-1 इंच बारिश हो चुकी है। तूफान का खतरा राजस्थान तक बना हुआ है।

समुद्री तूफान पहले दीव से 10 किलोमीटर दूर टकराया, इसके बाद गुजरात के ऊना पहुंचा।

समुद्री तूफान पहले दीव से 10 किलोमीटर दूर टकराया, इसके बाद गुजरात के ऊना पहुंचा।

3 मीटर तक ऊंची लहरें उठ रहीं
तूफान ने पहले केंद्र शासित प्रदेश दीव में दस्तक दी। यह दीव से 10 किलोमीटर दूर टकराया। तूफान का केंद्र दीव से 35 किमी ईस्ट-साउथ ईस्ट में रहा। इससे अरब सागर में तीन मीटर तक ऊंची लहरें उठ रही हैं। समुद्र का पानी शहर में घुसने लगा है। यही हाल गिर-सोमनाथ जिले का है। यहां तटीय क्षेत्रों के गांवों में समुद्र का पानी पहुंचने लगा है। हालांकि, प्रशासन ने सारे गांव खाली करा लिए हैं।

दीव की कलेक्टर सलोनी राय ने बताया कि हमने कच्चे घरों से लोगों को निकाल लिया है। 1200 लोगों को शेल्टर में शिफ्ट किया गया है। यहां अभी NDRF की 2 टीमें तैनात हैं। सेना की भी 2 टीमें आएंगी। कोविड अस्पतालों में बिजली की बैकअप व्यवस्था की है। सभी सरकारी अस्पताल भी 24 घंटे चालू रहेंगे।

PM मोदी ने मुख्यमंत्रियों से बात की
इससे पहले ताऊ ते तूफान महाराष्ट्र के पालघर और गुजरात के ही वापी के समानांतर करीब 150 किमी दूर से गुजरा। इसकी चक्रीय हवाओं की गति 165 किमी प्रति घंटा तक रही। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र, गोवा और गुजरात के मुख्यमंत्रियों और दमन-दीव के LG से बात कर हालात की जानकारी ली है।

तट से टकराने के बाद कमजोर होगा तूफान
तूफान के गुजरने पर सबसे ज्यादा बारिश महाराष्ट्र के रत्नागिरी (400 मिमी) और गोवा में (300 मिमी) दर्ज हुई है। तटीय इलाकों में 60-70 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चल रहीं हैं। तट से टकराने के बाद तूफान कमजोर होता जाएगा। गुजरात में इसके असर से मंगलवार को भी दिनभर भारी बारिश हो सकती है।

भारतीय सेना ने किसी भी तरह के हालात से निपटने के लिए 180 टीमें और 9 इंजीनियर टास्क फोर्स को स्टैंडबाय पर रखा है। राजस्थान पहुंचते-पहुंचते तूफान कमजोर होकर डीप डिप्रेशन में बदलेगा। 18 मई की दोपहर तक कम दबाव के क्षेत्र में बदलते हुए हिमालय की ओर बढ़ जाएगा।

गुजरात में 23 साल बाद इतना भयानक तूफान
गुजरात में 23 साल बाद इतना भयानक तूफान आ रहा है। इससे पहले 9 जून 1998 में कच्छ जिले के कांडला में इतना भयानक तूफान आया था। इसमें 1173 लोगों की मौत हुई थी और 1774 लोग लापता हो गए थे। गुजरात के तटीय जिलों के 655 गांवों से करीब 1.5 लाख लोगों को शिफ्ट किया जा रहा है। पश्चिमी तट से हजारों मकान खाली कराए गए हैं।

NDRF की 100 से ज्यादा टीमें तैनात
भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के डायरेक्टर जनरल (DG) मृत्युंजय मोहपात्रा ने बताया है कि राज्य के 17 जिलों को अलर्ट पर रखा गया है। 7 राज्यों में NDRF की 100 से ज्यादा टीमें तैनात हैं। गुजरात में सबसे ज्यादा 50 टीमें लगाई गई हैं। महाराष्ट्र में मुंबई सहित कई तटीय जिलों में तूफान की वजह से वैक्सीनेशन बंद करना पड़ा है। यहां मुंबई समेत कई शहरों में अलर्ट है।

अपडेट्स

  • राजकोट एयरपोर्ट सोमवार शाम 4 बजे से 19 मई की रात 11.15 बजे तक के लिए बंद कर दिया गया है। अहमदाबाद, सूरत और वडोदरा एयरपोर्ट भी मंगलवार तक बंद रहेंगे।
  • तूफान की वजह से मुंबई एयरपोर्ट को 11 घंटे बंद रखे जाने के बाद रात 10 बजे से उड़ानें फिर शुरू कर दी गईं है। इस दौरान 55 फ्लाइट रद्द की गईं।
  • महाराष्ट्र के कोंकण में अलग-अलग घटनाओं में 6 लोगों की मौत हो गई। वहीं, समुद्र में दो नावें डूबने से तीन नाविक लापता हैं।
  • इंडियन कोस्ट गार्ड के जहाज समर्थ ने गोवा तट पर तूफान में फंसी नाव से 15 लोगों को बचाया है। ये सभी मछली पकड़ने निकले थे।
  • सूरत जिले में 1,899 लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया।
  • गोवा के CM प्रमोद सावंत ने गृहमंत्री अमित शाह से फोन पर बात की।
  • गुजरात के जूनागढ़ में सैकड़ों लोगों को सरकारी शेल्टर होम्स में शिफ्ट किया।
  • अमरेली जिले के जाफराबाद इलाके के लोगों से कैबिनेट मंत्री कुंवरजी बावलिया ने घर खाली करने की अपील की।
  • गुजरात में NDRF की 41 और SDRF की 10 टीमें तैनात हैं। निचले इलाकों में 456 डी वाटरिंग पंप लगाए गए हैं।
  • कई शहरों के शहरी इलाकों से 2126 और ग्रामीण क्षेत्रों से 643 होर्डिंग हटा दिए गए।
  • महाराष्ट्र के समुद्री तट से लगे जिलों से 12,420 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया।

गुजरात पर सबसे ज्यादा असर
मौसम विभाग का कहना है कि इस चक्रवात का सबसे ज्यादा असर गुजरात पर पड़ेगा। द्वारका, कच्छ, पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, अमरेली, राजकोट, मोरबी और जामनगर जिलों में फूस के बने मकान पूरी तरह तबाह हो जाएंगे, मिट्टी के घरों को भी भारी नुकसान होगा, पक्के मकानों को भी कुछ नुकसान पहुंच सकता है। भारी बारिश के कारण कुछ इलाकों में बाढ़ जैसे हालात हो सकते हैं।

रविवार को कर्नाटक के 6 जिलों पर इसका काफी बुरा असर पड़ा। इन जिलों के 73 गांव इससे प्रभावित हुए हैं। भारतीय वायुसेना भी अलर्ट मोड में है। वायुसेना ने 16 ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट और 18 हेलिकॉप्टर को तैयार रखने के लिए कहा है। तूफान के खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार तो गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को हाई लेवल मीटिंग की और तैयारियों का जायजा लिया।

चार राज्यों में 11 लोगों की मौत

  • कर्नाटक के अलग-अलग जिलों में तूफान से अब तक 5 लोगों की मौत हो चुकी है।
  • महाराष्ट्र के जलगांव में रविवार दोपहर 3 बजे एक पेड़ के झोपड़ी पर गिरने से 17 और 12 साल की दो बहनों की मौत हो गई। उनकी मां की हालत गंभीर है।
  • गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा है कि तूफान के कारण राज्य में 2 लोगों की मौत हुई है।
  • तमिलनाडु के कन्याकुमारी में दीवार गिरने से 2 लोगों की मौत हो गई। इसमें 2 साल का एक बच्चा और दूसरा 36 साल का व्यक्ति शामिल है।

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: