दि न्यूयॉर्क टाइम्स से विशेष अनुबंध के तहत: 723 महामारी विशेषज्ञ बोले, बच्चों समेत 70% अमेरिकियों को टीके लगने के बाद ही देश को कोरोना फ्री मानेंगे, तब बेफिक्र हो सकेंगे

[ad_1]

  • Hindi News
  • International
  • 723 Epidemiologists Said, 70% Of Americans, Including Children, Will Be Treated As Corona Free Only After Being Vaccinated, Then They Will Be Able To Worry.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

2 घंटे पहलेलेखक: क्लेयर कैन मिलर, केविन क्वैली

  • कॉपी लिंक
पांच साल में कोरोना एक सामान्य फ्लू हो जाएगा, कम फैलेगा और मौतें भी घटेंगी। - Dainik Bhaskar

पांच साल में कोरोना एक सामान्य फ्लू हो जाएगा, कम फैलेगा और मौतें भी घटेंगी।

अमेरिका में कोरोना के मामले घटने लगे हैं, मास्क की अनिवार्यता भी हटा दी गई है। पर महामारी अभी खत्म नहीं हुई और तब तक नहीं होगी जब तक कि किशोरों का भी टीकाकरण पूरी तरह न हो जाए। अमेरिका, ब्रिटेन समेत कई देशों के महामारी विशेषज्ञों का मत यही है।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने महामारी के वास्तविक अंत पर अमेरिका के 723 एपिडेमियोलॉजिस्ट से बातचीत की। इस पर उनका कहना है कि जब हम सभी गतिविधियां बिना सावधानी रखे कर सकेंगे, तब कोरोना का अंत माना जाएगा। यह स्थिति तब आएगी जब हर उम्र के 70% अमेरिकियों को टीके लग जाएंगे।

जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के महामारी विशेषज्ञ डेविड सेलेंटानो के मुताबिक महामारी के अंत की चाबी बच्चे ही हैं, जिन्हें हाल ही में टीके लगना शुरू हुए हैं। विशेषज्ञों को उम्मीद है कि कोरोना खत्म होगा, पर उतनी जल्दी नहीं जितना कि लोग सोच रहे हैं। करीब 5 साल में कोरोना फ्लू जैसा हो जाएगा।

कम फैलेगा, मौतें भी कम होंगी और सबसे बड़ी बात सेहत का संकट और लॉकडाउन जैसी स्थिति नहीं बनेगी। कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में बाल रोग विशेषज्ञ ग्रेचेन बेंडोली का कहना है ‘सुरंग के अंत में रोशनी है, हमारे पास जाने के साधन है, और यह पहुंच में है।’ 85% विशेषज्ञों का कहना है कि 4 जुलाई तक लोग बाहर जमा हो सकेंगे। सर्दियों तक घर में भी ऐसा कर सकेंगे। पर ये सभी बातें पूर्ण टीकाकरण पर निर्भर हैं।

अभी 37% लोगों को टीके की दोनों डोज लगी हैं और रफ्तार धीमी है। शत-प्रतिशत विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि ज्यादा टीकाकरण किए बिना देश-दुनिया को फिर से खोलने से संक्रमण बना रह सकता है। सैन डियागो यूनिवर्सिटी के कॉर्नी मैक्डेनियल कहते हैं कि रीओपनिंग में बच्चों की अनदेखी नहीं कर सकते। उनमें मजबूत इम्युनिटी सिस्टम के कारण कोरोना के गंभीर मामलों की संभावना कम होती है, पर वे कैरियर हो सकते हैं और नए वैरिएंट्स को फैला सकते हैं।

मास्क का नियम 1 साल और रहे, होम डिलीवरी ज्यादा रखें: विशेषज्ञ

ऑरेगान हेल्थ एंड साइंस यूनिवर्सिटी की सिंथिया कहती हैं कि वैश्विक स्तर पर टीकाकरण की अक्षमता मुश्किलें बढ़ा सकती है। टीके की अनिच्छा भी बड़ी बाधा है। मोंटाना यूनिवर्सिटी के एथन वॉकर के मुताबिक टीके में जितनी देरी होगी, खतरा उतना ही बढ़ेगा। मास्क का नियम कम से कम एक साल तक रखना चाहिए। खासकर जब भीड़ में जाने की जरूरत हो। लोगों को यात्राएं घटानी होंगी। दूर से अभिवादन, पार्टियां कम, मेडिकल जांच के लिए टेलीमेडिसिन, किराना व रेस्त्रां से होम डिलीवरी को खतरा कम होने तक जारी रखना चाहिए।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: