Bihar: अवैध माइनिंग पर News 18 के खुलासे से हड़कंप, प्रधान सचिव खनन ने DGP को लिखा पत्र

[ad_1]

बिहार में अवैध खनन का नजारा. (फाइल फोटो)

बिहार में अवैध खनन का नजारा. (फाइल फोटो)

न्यूज 18 ने अपने यह खुलासा किया था कि कैसे भोजपुर पटना और सारण जिले में बालू का अवैध खनन हो रहा है. कैसे बालू माफिया सुबह से लेकर रात तक एक्टिव हैं. अवैध खनन के जरिए किस प्रकार से राज्य सरकार को सालाना 300 करोड़ के राजस्व का चूना लगाया जा रहा है.

पटना. बिहार ( Bihar ) में पीला सोना यानि बालू का अवैध खनन ( illegal mining ) का खेल जारी है. बालू माफियाओं को पुलिस का साथ मिला हुआ है और इसी को लेकर ऑपरेशन पीला सोना के जरिये न्यूज 18 के इस खुलासे ने प्रशासनिक अमले में हड़कंप मचा दिया है. न्यूज 18 ने अपने यह खुलासा किया था कि कैसे भोजपुर पटना और सारण जिले में बालू का अवैध खनन हो रहा है. कैसे बालू माफिया सुबह से लेकर रात तक एक्टिव हैं. अवैध खनन के जरिए किस प्रकार से राज्य सरकार को सालाना 300 करोड़ के राजस्व का चूना लगाया जा रहा है. किस तरह से पुलिस की गाड़ी बालू से ओवर लोड बड़ी ट्रकों को एस्कॉर्ट कर पास कराती है और तो और बालू माफियाओं से पैसों की उगाही कर रही है. पूरे ऑपरेशन के दौरान न्यूज 18 ने दिखाया था कि बिहार में बालू माफिया और पुलिस के सांठगांठ का खेल कैसे चल रहा है. न्यूज 18 ने यह भी बताया था कि 7 मई को खनन विभाग की प्रधान सचिव हरजोत कौर बम्हरा के तरफ से बालू माफियाओं पर नकेल कसने को लेकर जारी आदेश की कैसे धज्जियां उड़ाई जा रही हैं. दरअसल, 17 मई को खनन विभाग की प्रधान सचिव हरजोत कौर बम्हरा ने फिर से एक लेटर लिखा है. इस बार उन्होंने यह लेटर बिहार पुलिस के मुखिया यानी डीजीपी संजीव कुमार सिंघल को लिखा है. सोमवार को लिखे गए इस लेटर में उन्होंने साफ तौर कहा है कि 7 मई को भोजपुर, पटना, सारण, औरंगाबाद और रोहतास के डीएम और एसपी से बालू घाटों की नियमित ध्यान देने को कहा गया था. ताकि वहां किसी भी हाल में अवैध खनन नहीं हो, लेकिन ऐसा हुआ नहीं . पुलिस की मिली भगत के कारण लगातार बालू के अवैध खनन का मामला सामने आ रहा है. यहां तक की पुलिस की गाड़ी ओवर लोड बालू वाली गाडिय़ों को एस्कॉर्ट कर रहे हैं. जिलों में बालू का अवैध खनन उसका ट्रांस्पोर्टेशन और स्टॉक में रखा जा रहा है. यह काम संबंधित थानों की पुलिस वालों मिली भगत के बगैर संभव नहीं है. अपने लेटर के जरिए खनन विभाग की प्रधान सचिव ने डीजीपी से स्पष्ट तौर पर कहा है कि जिन बालू घाटों पर वैध तरीके से खनन नहीं हो रहा है, वहां पर अवैध खनन को रोकने के लिए प्रर्याप्त साधन के साथ पुलिस की कार्रवाई और निगरानी बहुत जरुरी है .इसके लिए संबंधित रेंज के आईजी और जिले के एसपी को ठोस कार्रवाई करने का निर्देश देने को कहा है. साथ ही अवैध खनन में बालू माफियाओं का साथ दे रहे दोषी पुलिसकर्मियों और पदाधिकारियों के खिलाफ जांच कर कठोर कानूनी कार्रवाई करने को कहा है.







[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: