कम्युनिटी किचन का ‘रोहतास मॉडल’ पूरे बिहार में होगा लागू, कोविड मरीजों को घर पर मिलेगा खाना

[ad_1]

रोहतास के जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि लॉकडाउन में मरीजों के परिजनों को भोजन की दिक्कत हो रही थी.

रोहतास के जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि लॉकडाउन में मरीजों के परिजनों को भोजन की दिक्कत हो रही थी.

रोहतास के जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार (Dharmendra Kumar) के इस प्रयास की सरकार ने सराहना की है और इसके बाद बिहार के सभी जिलों के जिला अधिकारी को यह निर्देश दिया गया है कि रोहतास मॉडल को पूरे बिहार में लागू किया जाए.

सासाराम. खबर सासाराम (Sasaram) अनुमंडल क्षेत्र से है. रोहतास जिले में चलाए जा रहे सामुदायिक किचन (Community kitchen) से अब आइसोलेशन में रहने वाले कोरोना मरीजों तथा उनके परिजनों को भी खाना भेजा जा रहा है. इस मॉडल को सीएम नीतीश कुमार ने सराहना की है. इसके बाद इसे पूरे प्रदेश में लागू करने के लिए निर्देश दिए गए हैं. बता दें कि रोहतास जिला के सामुदायिक किचन के माध्यम से व्हाट्सएप नंबर (Whatsapp Number) के अलावा मोबाइल नंबर जारी किया गया है. जिसके माध्यम से कोई भी जरूरतमंद, आइसोलेशन में रहने वाले मरीज तथा उसके परिजन ऑन डिमांड मुफ्त खाना मंगा सकते हैं. सूचना देने पर जो वॉलिंटियर हैं, वह उनके घरों तक खाना पहुंचा रहे हैं. रोहतास के जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार के इस प्रयास की सरकार ने सराहना की है और इसके बाद बिहार के सभी जिलों के जिला अधिकारी को यह निर्देश दिया गया है कि रोहतास मॉडल को पूरे बिहार में लागू किया जाए. वहीं, आइसोलेशन में रहने वाले मरीज तथा उनके परिजनों को मांग के अनुसार खाना पहुंचाया जाए. इसके अलावा सामुदायिक किचन में बच्चों के लिए दूध की व्यवस्था किए जाने के निर्देश दिए गए हैं. आज वर्चुअल माध्यम से सीएम ने खुद सामुदायिक रसोई में खाना खाने वाले लोगों से बात की. क्या कहते हैं जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार? रोहतास के जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि लॉकडाउन में मरीजों के परिजनों को भोजन की दिक्कत हो रही थी. इसी को देखते हुए कोविड हेल्थ सेंटर के पास ही एक सामुदायिक किचन खोला गया. ताकि उन लोगों को लॉकडाउन में भोजन की दिक्कत न हो. साथ ही आसपास के लोगों को भी इससे काफी सहूलियत होगी. असहाय तथा गरीब तबके के लोगों को खाने की दिक्कत नहीं होगी.होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को घर तक पहुंचाया जा रहा भोजन सबसे बड़ी बात है कि होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों को व्हाट्सएप के माध्यम से खाना मंगवाने की सहूलियत दी गई है. इसके अलावा जो भी जरूरतमंद जो सामुदायिक किचन तक नहीं पहुंच सकते हैं, वे जिला प्रशासन द्वारा जारी मोबाइल नंबर तथा व्हाट्सएप नंबर पर संपर्क कर निशुल्क अपने घर निशुल्क भोजन मंगवा सकते हैं.







[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: