इजराइल-हमास जंग में 200 मौतें: इजराइली एयरस्ट्राइक में हमास की 15 KM लंबी सुरंग तबाह, भारत ने इजराइल पर रॉकेट हमले का विरोध किया

[ad_1]

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तेल अवीव13 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

इजराइल और हमास (इजराइल इसे आतंकी संगठन मानता है) के बीच पिछले 8 दिनों से जंग जारी है। दोनों तरफ के 200 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं। इनमें 60 बच्चे और 37 महिलाएं शामिल हैं। मरने वालों में 10 इजराइल और बाकी फिलिस्तीनी हैं। इस बीच भारत ने इजराइल पर हमास के रॉकेट हमले का विरोध किया है।

सोमवार सुबह इजराइली डिफेंस फोर्स (IDF) ने गाजा पट्टी पर एयरस्ट्राइक की। IDF का दावा है कि इस हमले में हमास की 15 किलोमीटर लंबी सुरंग तबाह हो गई और 9 कमांडर भी मारे गए। सोमवार सुबह तक हमास इजराइल के शहरों पर 3 हजार 150 रॉकेट दाग चुका है। इसके बदले में IDF फिलिस्तीन के कब्जे वाले गाजा में 1,180 एयरस्ट्राइक्स कर चुकी है। टाइम्स ऑफ इजराइल के मुताबिक हमास के 460 रॉकेट मिसफायर होकर गाजा पर ही गिरे गए। 90 प्रतिशत को इजराइस के आयरन डोम ने हवा में ही खत्म कर दिया। इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा है कि ये सब इतनी जल्दी खत्म नहीं होने वाला है।

इजराइल की एयरस्ट्राइक में तबाह हुए अपने घर से जरूरी सामान निकालते फिलिस्तीनी।

इजराइल की एयरस्ट्राइक में तबाह हुए अपने घर से जरूरी सामान निकालते फिलिस्तीनी।

अमेरिका ने तीसरी बार रोका UNSC का बयान
एक हफ्ते के अंदर तीसरी बार रविवार को अमेरिका ने UN सुरक्षा परिषद को ज्वाइंट स्टेटमेंट देने से रोक दिया। UN इजराइल को तुरंत सीजफायर करने की चेतावनी देने वाला था। ये बैठक नॉर्वे, ट्यूनीशिया और चीन की तरफ से बुलाई गई थी। बैठक में जब संयुक्त बयान जारी करने की बात रखी गई तो अमेरिका के प्रतिनिधि ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। इस पर सफाई देते हुए UN में अमेरिकी एंबेसेडर लिंडा थॉमस ने कहा है कि हम दोनों पक्षों से बातचीत कर मुद्दे को सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं। चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने अमेरिका पर इजराइल का पक्ष लेने का आरोप लगाया है।

गाजा प्ट्टी पर हुई एयरस्ट्राइक के बाद घायलों को अस्पताल पहुंचाते लोग।

गाजा प्ट्टी पर हुई एयरस्ट्राइक के बाद घायलों को अस्पताल पहुंचाते लोग।

कतर के मंत्री ने US से समझौता कराने को कहा
कतर के विदेश मंत्री मोहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल-थानी ने रविवार को अमेरिका के रक्षा मंत्री एंटोनी ब्लिंकन से बात की। अल-थानी ने ब्लिंकिन से कहा है कि इस मुद्दे को सुलझाने के लिए इंटरनेशनल कम्युनिटी को आगे आना चाहिए। इजराइल के हमले में निर्दोष फिलिस्तीनी मारे जा रहे हैं।

फिलिस्तीन का भी समर्थन
संयुक्त राष्ट्र (UN) भारत के स्थायी प्रतिनिधि 16 मई को इस मामले पर बयान जारी किया। उन्होंने इजराइल की एयरस्ट्राइक को हमास के हमले का जवाब बतया। उन्होंने कहा कि भारत भी पाकिस्तान के कारण क्रॉस-बॉर्डर आतंकवाद का शिकार रहा है। सुन्नी आतंकी संगठन के इजराइल में किए गए रॉकेट हमले में भारतीय महिला सौम्या संतोष की भी जान गई है। हम इसकी निंदा करते हैं।

भारत ने अपनी लाइनों को फिर दोहराते हुए इजराइल और फिलिस्तीन विवाद को दो देशों का आपसी मसला बताया। इस मुद्दे पर भारत की तरफ से बहुत नपा-तुला बयान दिया गया है। इजराइल और अरब के मुस्लिम देश दोनों के साथ अच्छे संबंध होने के कारण भारत हमेशा बयानबाजी से बचता आया है।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *