भास्कर खास: ऑस्ट्रेलिया जाने वाले 46 यात्री पॉजिटिव मिले तो दिल्ली में छोड़ा, इनका दोबारा टेस्ट कराया तो सभी निगेटिव पाए गए

[ad_1]

  • Hindi News
  • International
  • 46 Passengers Going To Australia Were Found Positive, Then Left In Delhi, Tested Them Again And All Were Found Negative.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

2 मिनट पहलेलेखक: मेलबर्न से अमित चौधरी

  • कॉपी लिंक
रिपोर्ट्स पर सवाल उठने के बाद ऑस्ट्रेलिया सरकार ने क्वॉन्टास एयरवेज के साथ मिल कर सभी यात्रियों की जांच करवाने का फैसला किया है। - Dainik Bhaskar

रिपोर्ट्स पर सवाल उठने के बाद ऑस्ट्रेलिया सरकार ने क्वॉन्टास एयरवेज के साथ मिल कर सभी यात्रियों की जांच करवाने का फैसला किया है।

ऑस्ट्रेलिया की क्वॉन्टास एयरवेज ने कहा है कि वह भारत में कोविड टेस्ट करने वाली लेबोरेटरी सीआरएल डायग्नोस्टिक की टेस्ट रिपोर्ट्स की जांच करेगी। क्वॉन्टास एयरवेज ने भारत में फंसे ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों और रेसिडेंट्स की सीआरएल डायग्नोस्टिक लैब से कोविड जांच करवाई। क्वॉन्टास एयरवेज ने बाकायदा भारत में फंसे 150 ऑस्ट्रेलियाई को दिल्ली के एक होटल में ठहराया और शनिवार से दोबारा शुरू ही रही फ्लाइट्स से पहले लैब से सभी यात्रियों की कोविड जांच करवाई। जांच में 46 यात्रियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

लैब तय मानकों के मुताबिक काम नही कर रही थी।​​​​​​
नतीजतन इन 46 यात्रियों और इनके परिवार के सदस्यों को क्वॉन्टास एयरवेज ने फ्लाइट में चढ़ने की अनुमति नही दी। 150 में से 70 यात्रियों (इनमें परिजन भी शामिल) को दिल्ली में छोड़ जहाज ऑस्ट्रेलिया के डार्विन एयरपोर्ट के लिए उड़ गया। बाकी बचे यात्री बेहद निराश थे क्योंकि इनमें से किसी में कोविड के लक्षण नहीं थे लेकिन इन यात्रियों के गुस्से का तब ठिकाना नहीं रहा, जब इनमें से कुछ ने दूसरी लैब में टेस्ट करवाया।

वहां रिपोर्ट निगेटिव आई।हद तो तब हो गई, जब पता चला कि जिस सीआरएल लैब की रिपोर्ट के आधार पर क्वॉन्टास एयरवेज ने अपने 70 यात्रियों को मौत के मुंह में छोड़ दिया, उसकी मान्यता तो 6 अप्रैल को रद्द हो चुकी थी। मान्यता देने वाली सरकारी एजेंसी नेशनल एक्रीडेशन बोर्ड ऑफ टेस्टिंग एंड कैलीब्रेशन लैबोरेटरी यानी एनएबीएल ने एक शिकायत की जांच के बाद इस लैब की मान्यता रदद् की थी। आदेश के मुताबिक, लैब तय मानकों के मुताबिक काम नही कर रही थी।

इस बीच, भास्कर ने दिल्ली स्थित सीआरएल लैब के ऑफिस में फोन कर पक्ष जानने की कोशिश की लेकिन यह कहा गया कि आपको कॉल बैक किया जाएगा। खबर लिखे जाने तक सीआरएल की तरफ से कोई भी वक्तव्य नहीं आया था। कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद ऑस्ट्रेलिया ने भारत से आने जाने वाली सभी फ्लाइट्स पर 15 मई तक बैन लगा दिया था। जिस वजह से भारत में ऑस्ट्रेलिया के लगभग 9 हजार नागरिक और रेसिडेंटज फंस कर रह गए थे। अब 15 मई से ऑस्ट्रेलिया ने इन्हें निकालने के लिए फ्लाइट्स दोबारा शुरू की है। रिपोर्ट्स पर सवाल उठने के बाद ऑस्ट्रेलिया सरकार ने क्वॉन्टास एयरवेज के साथ मिल कर सभी यात्रियों की जांच करवाने का फैसला किया है।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: