VIDEO: कोरोना महामारी के बीच गुंजन सिंह का पर्यावरण विशेष गीत ‘काटोगे जब हरे वृक्ष को हवा कहां से पाओगे’ वायरल

[ad_1]

गुंजन सिंह का गाना यूट्यूब पर धमाल मचा रहा है.

गुंजन सिंह का गाना यूट्यूब पर धमाल मचा रहा है.

कोरोना महामारी के तांडव के बीच गुंजन सिंह (Gunjan Singh) का पर्यावरण (Enviroment) बचाने और पेड़ लगाने की सीख देता भोजपुरी (Bhojpuri) गाना ‘काटोगे जब हरे वृक्ष को हवा कहां से पाओगे’ (Katoge Jab Hare Vriksha Ko Hawa Kaha Se Paoge) वायरल हो रहा है. इस गाने को लोगों का बहुत प्यार मिल रहा है.

Video​ | काटोगे जब हरे वृक्ष को हवा कहाँ से पाओगे | Gunjan Singh | पर्यावरण विशेष गीत | Sad Song 2021 | Katoge Jab Hare Vriksha Ko Hawa Kaha Se Paoge | भोजपुरी (Bhojpuri) सिनेमा के सुपरस्टार सिंगर गुंजन सिंह (Gunjan Singh) इन दिनों छाए हुए हैं. उनके एक के बाद एक कई गाने रिलीज हो रहे हैं जो भोजपुरी दर्शकों को दीवाना बना रहे हैं. गुंजन सिंह अपने गानों के साथ-साथ अपनी स्टाइल के लिए भी जाने जाते हैं. उनके गाने दमदार होते हैं और उनमें खूब मस्ती होती है. गुंजन सिंह का ऐसा ही एक गाना हाल ही में रिलीज हुआ है जो खूब सुर्खियां बटोर रहा है. कोरोना महामारी के तांडव के बीच गुंजन सिंह का पर्यावरण बचाने और पेड़ लगाने की सीख देता भोजपुरी गाना ‘काटोगे जब हरे वृक्ष को हवा कहां से पाओगे’ (Katoge Jab Hare Vriksha Ko Hawa Kaha Se Paoge) वायरल हो रहा है. इस गाने को लोगों का बहुत प्यार मिल रहा है. गाने की खासियत ये है कि इसमें गुंजन सिंह पर्यावरण के बीच बैठे नजर आ रहे हैं. गाने में बहुत मनमोहक दृश्य नजर आ रहे हैं जो लोगों को मन को प्रफुल्लित कर रहे हैं. गुंजन सिंह के इस गाने को रिलीज होने के पहले ही दिन लाखों व्यूज मिल चुके हैं.

Youtube Video

इस सुपरहिट भोजपुरी गाने को गुंजन सिंह ने अपनी आवाज में गाया है जबकि गाने को लिखा है आर आर पंकज ने और म्यूजिक दिया है आर्या शर्मा ने. गाने की परिकल्पना राकेश सिंह मारू ने और इसके निर्देशक हैं सुशांत और चंदन. गाने के एडिटर हैं प्रशांत कुमार सिंह. ये सुपरहिट गाना गुंजन सिंह एंटरटेनमेंट के यूट्यूब चैनल पर रिलीज हुआ है. गाना 2 लाख से ज्यादा व्यूज हासिल कर चुका है.







[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: