US धार्मिक स्वतंत्रता रिपोर्ट: भारत समेत 56 देशों में अल्पसंख्यकों के अधिकारों को लेकर अमेरिका चिंतित, सूडान, उजबेक्सितान और तुर्कमेनिस्तान में सुधरे हालात

[ad_1]

  • Hindi News
  • International
  • US International Religious Freedom Report 2020 Released India, Iran, China, Including 200 Countries Made The Religious Freedom Base,

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटन3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
ब्लिंकन ने प्यू रिसर्च रिपोर्� - Dainik Bhaskar

ब्लिंकन ने प्यू रिसर्च रिपोर्�

अमेरिका ने बुधवार को अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता 2020 (International Religious Freedom Report 2020) रिपोर्ट जारी की है। USCIRF ने रिपोर्ट में भारत समेत दुनियाभर के 200 देशों और उनके क्षेत्रों में धार्मिक स्वतंत्रता की समीक्षा को आधार बनाया है। साथ ही भारत समेत 56 देशों में अल्पसंख्यकों से हो रहे भेदभाव पर चिंता जाहिर की है। इसके अलावा सूडान, उजबेक्सितान और तुर्कमेनिस्तान जैसे देशों में धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर हालात सुधाऱने को सकारात्मक कदम बतया है। US के स्टेट डिपार्टमेंट ने यह रिपोर्ट इंटरनेशनल रिलिजियस फ्रीडम एक्ट ऑफ 1998 के तहत जारी की है।

ब्लिंकन बोले- मानव अधिकारों के सम्मान के बिना धार्मिक स्वतंत्रता अधूरी

  • अमेरिका के सेक्रेटरी ऑफ स्टेट एंटोनी ब्लिंकन ने एक प्रेस में कॉन्फ्रेंस में रिपोर्ट की जानकारी देते हुए कहा,’ मानव अधिकारों के सम्मान के बिना धार्मिक स्वतंत्रता को पूरी तरह से महसूस नहीं किया जा सकता है और जब सरकारें अपने लोगों के स्वतंत्र रूप से विश्वास और पूजा करने के अधिकार का उल्लंघन करती है, तो यह सभी लोगों को खतरे में डाल देता है।’
  • उन्होंने कहा, ‘धार्मिक स्वतंत्रता एक खुले विचार वाले और स्थिर समाज का प्रमुख आधार है। इसके बिना लोग अपने देश की सफलता में पूर्ण तौर पर योगदान देने में सक्षम नहीं होते हैं। जब भी मानव अधिकारों को नकारा जाता है, तो तनाव का कारण बनता है। यही विभाजन को जन्म देता है। ब्लिंकन ने प्यू रिसर्च रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि दुनिया में अभी 56 देशों में अधिकांश लोग इस तरह के अधिकार से वंचित हैं।’

रिपोर्ट में भारत में अल्पसंख्यकों से भेदभाव पर जताई चिंता

रिपोर्ट में भारत का जिक्र भी है। इसमें भारत में धार्मिक और जातीय अल्पसंख्यकों की हत्याओं, हमले, भेदभाव और कार्रवाई पर चिंता जाहिर की गई है। ब्लिंकन ने बताया कि अमेरिकी और भारत के समकक्षों से CAA, विश्वास आधारित NGO की समस्याओं और मुस्लिमों ने कोरोनावायरस फैलाया जैसे मुद्दे पर चर्चा कर रहे हैं।

इससे पहले भारत ने अमेरिका की तरफ से जारी इसी तरह की पिछली रिपोर्ट को नकार दिया था। तब भारत सरकार की तरफ से किसी भी तरह की लोकस स्टैंडी (सुने जाने के अधिकार) के न होने की बात कही गई थी।

‘ईरान में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार, प्रताड़ना और गिरफ्तारी जारी”

इसके अलावा ब्लिंकन ने ईरान का जिक्र करते हए कहा, ‘वहां अल्पसंख्यकों पर अत्याचार, प्रताड़ना और गिरफ्तारी जारी है। इनमें बहाई, ईसाई, यहूदी, पारसी, सुन्नी और सूफी मुस्लिम धर्म के लोग शामिल हैं। इधर, म्यांमार में सैन्य तख्तापलट करने वाले नेता रोहिंग्या मुस्लमानों पर अत्याचार के जिम्मेदार हैं। इनमें अधिकांश मुस्लिम और दुनियाभर में अन्य धर्म के लोग शामिल हैं। इसके अलावा साउदी अरब दुनिया में एक ऐसा अकेला देश है, जहां चर्च नहीं है। जबकि वहां लाखों की संख्या में ईसाई रहते हैं।’

उन्होंने कहा, ‘चीन में लगातार धार्मिक अभिव्यक्ति का अपराधिकरण होता है। वहां लगातार उइगर मुस्लमानों और अन्य धर्म के अल्पसंख्यकों के लोगों के खिलाफ मानव अधिकारों का उल्लंघन और नरंसहार जैसे अपराध जारी है। उन्होंने वहां के सेंट्रल ग्रुप ऑफ प्रिवेंटिंग एंड डीलिंग विथ हेरेटिकल रिलिजन ऑफ चेंग्दू के पूर्व निदेशक यू हुई पर भी प्रतिबंध लगाए हैं।’

रिपोर्ट में धार्मिक स्वतंत्रता बढ़ाने वाले देशों को भी शामिल किया

ब्लिंकन ने कहा, ‘हालांकि कुछ देशों ने धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा देने के लिए सकारात्मक कदम उठाए हैं। इनमें सूडान, उजबेक्सितान और तुर्कमेनिस्तान शामिल हैं। इस रिपोर्ट में सरकारों की नीतियों को भी शामिल किया है, जिनमें किसी भी तरह की धार्मिक आस्था और धार्मिक संप्रदायों, व्यक्तियों के अधिकारों का उल्लंघन होता है। साथ ही धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा देने के लिए अमेरिकी नीतियों को भी शामिल किया है।’

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: