टिके की दौर: अमेरिका में वैक्सीन लगवाने में महिलाएं आगे; पुरुषों की तुलना में पारिवारिक जिम्मेदारियों का अनुभव ज्यादा इसलिए वे जागरूक भी

[ad_1]

  • Hindi News
  • International
  • Women Lead Vaccine In America; Experience Of Family Responsibilities More Than Men, So They Are Also Aware

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

8 मिनट पहलेलेखक: तारा लॉ

  • कॉपी लिंक
केएफएफ सर्वे के अनुसार 73% महिलाएं घर के सदस्य को कोरोना होने की संभावना को लेकर चिंतित दिखीं। पर पुरुषों में 58% ने ही इस पर चिंता जताई। - Dainik Bhaskar

केएफएफ सर्वे के अनुसार 73% महिलाएं घर के सदस्य को कोरोना होने की संभावना को लेकर चिंतित दिखीं। पर पुरुषों में 58% ने ही इस पर चिंता जताई।

  • मई के पहले हफ्ते तक 38.5% पुरुषों ने जबकि 43.5% महिलाओं ने वैक्सीन लगवाई

अमेरिका में कोरोना के कारण महिलाओं से ज्यादा पुरुषों की मौतें हुईं। संक्रमण से 13 पुरुषों की जान गई तो उनकी तुलना में 10 महिलाओं की मौत हुई। यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन ने यह जानकारी एक प्रोजेक्ट के तहत जुटाई है। हालांकि, अमेरिका में तीन वैक्सीनों को मिली मंजूरी के बाद मौतों का जोखिम बहुत हद तक घटाने में सफलता मिली है। इसके बावजूद अमेरिकी पुरुषों में वैक्सीन लगवाने की होड़ नहीं दिखती।

अमेरिकी सीडीसी के मुताबिक 3 मई तक सिर्फ 38.5% पुरुषों ने ही वैक्सीन लगवाई, जबकि कुल महिलाओं में से 43.3% ने सुरक्षा कवच अपनाया। जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी की रिसर्च साइंटिस्ट रोजमैरी मॉर्गन और वांडरबिल्ट यूनिवर्सिटी में मेंस हेल्थ रिसर्च सेंटर के प्रमुख डेरेक ग्रिफिथ का कहना है कि अमेरिका में महिलाएं, पुरुषों से औसत 5 साल ज्यादा जीती हैं। वहीं देश की 65+ आबादी का 55% हिस्सा इन्हीं का है। इसलिए इन्हें वैक्सीन का मौका पहले मिल गया। फ्रंटलाइन वर्कर्स में भी बड़ी संख्या महिलाओं की है। इसलिए इन्हें प्राथमिकता मिली।

2019 के आंकड़ों पर नजर डालें तो हेल्थकेयर की 76% नौकरियां महिलाओं के पास थीं। विशेषज्ञों के मुताबिक सेहत को लेकर पुरुषों की तुलना में महिलाएं ज्यादा जागरूक हैं। 2019-20 के इंफ्लुएंजा सीजन में 52% महिलाओं ने फ्लू की वैक्सीन लगवाई, जबकि महज 44% पुरुषों ने ही ऐसा किया।

मॉर्गन के मुताबिक परिवार के सदस्यों की देखभाल को लेकर महिलाओं का ज्यादा वास्ता होता है इसलिए वे ज्यादा जागरूक होती हैं। कम उम्र से ही उन्हें प्रजनन संबंधी देखभाल की जरूरत होती है। बड़े होने पर बच्चों और बुजुर्गों की देखभाल ज्यादा उन्हें ही करनी होती है। इसलिए वे इसे बेहतर समझती हैं। पुरुषों के पिछड़ने में कुछ हद तक राजनीति भी जिम्मेदार है। ज्यादातर पुरुष रिपब्लिकन के समर्थक हैं, जो वैक्सीन के विरोध में है। मार्च के एक सर्वे के मुताबिक रिपब्लिकन को मानने वाले 50% पुरुषों ने ही वैक्सीन लगवाने की बात कही थी।

घर के सदस्यों के बीमार होने की चिंता महिलाओं को ज्यादा: विशेषज्ञ

विशेषज्ञों का कहना है कि महिलाएं परिवार में किसी या खुद के बीमार होने को लेकर ज्यादा चिंतित रहती हैं। न्यूजऑवर/मेरिट के पोल के मुताबिक रिपब्लिकन समर्थक 57% महिलाओं ने कहा कि उन्होंने वैक्सीन लगवाई या लगवाने वाली हैं।

केएफएफ सर्वे के अनुसार 73% महिलाएं घर के सदस्य को कोरोना होने की संभावना को लेकर चिंतित दिखीं। पर पुरुषों में 58% ने ही इस पर चिंता जताई। इसके अलावा महिला अपने करीबियों को वायरस से बचाने के लिए ज्यादा सावधानी बरतती हैं। जैसे मास्क पहनना, दूरी रखना और तुरंत इलाज की पाबंद रहती हैं।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

Live Sachcha Dost TV

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: